Fitment Factor: DA एरियर के बाद फिटमेंट फैक्टर भी कंफर्म! 

आज का हमारा यह आर्टिकल सभी केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बहुत ही ज्यादा जरूरी है. अगर आप यह केंद्रीय कर्मचारी है या फिर आपके संबंध का कोई भी व्यक्ति केंद्रीय कर्मचारियों में शामिल है.

हमारे इस आर्टिकल को आखिर तक जरूर पढ़ें क्योंकि, हमारे इस आर्टिकल में आप को सभी केंद्रीय कर्मचारियों के वास्ते आवश्यक खबर और अपडेट प्राप्त होगी. जो कि आपके लिए बहुत ही ज्यादा लाभकारी सिद्ध होगी.

इस महीने सरकारी कर्मचारी फिटमेंट फैक्टर में भी परिवर्तन की आशा जताई जा रही है. फिटमेंट फैक्टर यदि 2.57 से बढ़ाकर के 3.68 कर दिया जाता है, तो न्यूनतम बेसिक सैलरी में ₹8000 की वृद्धि होगी.

चलिए प्रारंभ करते हैं:

केंद्रीय कर्मचारियों के वास्ते एक बार पुण: बहुत बड़ी खुशखबरी निकाल कर क्या रही है. सरकार इस महीने फिटमेंट फैक्टर पर निर्णय ले सकती है, इससे कर्मचारियों की बेसिक सैलरी में वृद्धि हो पाएगी.

इसके वास्ते ड्राफ्ट भी तैयार किया जाना प्रारंभ हो चुका है, जिसे सरकार को शेयर किया जाएगा. यूनियन ने बहुत बड़ी अपडेट प्रदान की है यदि सरकार से इस बात पर सहमति बन जाती है.

तो 5200000 से भी ज्यादा केंद्रीय कर्मचारियों की बेसिक सैलरी में बैठकर के अंतर्गत वृद्धि संभव हो पाएगी. इसका लाभ इन सभी पेंशनर्स को प्रदान किया जाएगा.

 केंद्रीय कर्मचारियों को एक और तोहफा, DA के बाद अब फिटमेंट फैक्टर भी कंफर्म होने से कर्मचारियों में काफी उत्साह है.

यूनियन कर रही है परिवर्तन की मांग:

यह बात ध्यान देने लायक है कि सरकार ने अभी हाल फिलहाल में ही कर्मचारियों के महंगाई भत्ते तथा महंगाई राहत में वृद्धि करने की ना केवल घोषणा करी है अपितु कार्य किया है.इसके पश्चात कर्मचारियों को जुलाई से बड़े हुए महंगाई भत्ते तथा महंगाई राहत का फायदा प्रदान किया जा रहा है.

अब यदि इस में परिवर्तन किए जाते हैं तो कर्मचारियों की न्यूनतम बेसिक सैलरी में वृद्धि हो जाएगी.इससे केंद्रीय कर्मचारी खुशी से झूम उठे हैं. उनकी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा है. फिटमेंट फैक्टर में परिवर्तन होते ही कर्मचारियों की पूरी सैलरी पर इसका प्रभाव देखने को मिलेगा.

इस बात के आसार जताए जा रहे हैं कि फिटमेंट फैक्टर को लेकर अगले महीने तक बैठक हो सकती है. सभी सरकारी कर्मचारी बड़े लंबे समय से फिटमेंट फैक्टर में वृद्धि की मांग कर रहे हैं.

सरकार की तरफ से गरीबों के कल्याण के लिए अनेक योजनाएं चलायी जाती हैं, उसी में से एक योजना E-Shram Card Yojana हैं जिसके माध्यम से गरीबों को 1000 रुपए का लाभ दिया जाता है.

किसकी भूमिका सैलरी में:

अभी हाल फिलहाल में केंद्रीय कर्मचारियों को 2.57 प्रतिशत के हिसाब से फिटमेंट फैक्टर प्रदान किया जा रहा है, जिसे बढ़ाकर के 3.68*किया जा सकता है.  आपको हम इस बात से भी अवगत करवा देगी.

केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी तय करने में फिटमेंट फैक्टर एक बहुत ही ज्यादा अहम भूमिका निभाता है. फिटमेंट फैक्टर में परिवर्तन का अर्थ होता है इससे आपकी सैलरी पर भी प्रभाव पढ़ने वाला है.

वास्तविकता में इसके पैसेज परी कर्मचारियों की बेसिक सैलरी बढ़ाई जाती है.सरकार की तरफ से गरीबों के कल्याण के लिए अनेक योजनाएं चलायी जाती हैं, उसी में से एक योजना E-Shram Card Yojana हैं जिसके माध्यम से गरीबों को 1000 रुपए का लाभ दिया जाता है.

2017 में बनाई गई थी वैसी सैलरी:

यह बात ध्यान देने लायक है कि फिटमेंट फैक्टर को 2.57 से बड़ा करके 3.68 करने पर मिनिमम बेसिक सैलरी अट्ठारह हजार से बढ़ाकर के 26000 कर दी जाएगी. इससे पूर्व सरकार की ओर से 2017 में एंट्री लेवल कर्मचारियों की बेसिक सैलरी में वृद्धि की गई थी.

किंतु उसके पश्चात इसमें किसी भी प्रकार का कोई भी परिवर्तन नहीं किया गया है. फिलहाल अभी केंद्रीय कर्मचारियों को न्यूनतम सैलरी के तौर पर ₹18000 प्रदान किए जा रहे हैं वहीं ज्यादातर सैलरी ₹56900 प्रदान करी जाती है.

एक के बाद एक सरकार से मिली खुशखबरी केंद्रीय कर्मचारियों को सैलरी में वृद्धि से काफी लाभ हो रहा है.

कैलकुलेशन के विषय में भी जाने:

यदि सरकार फिटमेंट फैक्टर को 3 गुना तक बढ़ा देती है तो भक्तों को छोड़कर के कर्मचारियों की सैलरी अट्ठारह हजार * 2.57 = 46260 ऊपर हो जाएगी.

वहीं यदि कर्मचारियों की डिमांड मान ली जाती है तो सैलरी को 26000*3.68 =95,680 हो जाएगी. 3 गुना फिटमेंट फैक्टर होने के पश्चात सैलरी 21000 इनटू 3 इक्वल टू₹63000 तक पहुंच जाएगी. 

केंद्रीय कर्मचारियों के ट्रैवल एलाउंस:-

अगर बात की जाए कि आखिर अर्थ यात्रा भत्ता का होता क्या है? तो इसका अर्थ होता है किराया परिवहन शुल्क दैनिक भत्ता एवं अन्य खर्चो जो नियमों के मुताबिक स्वीकृत किए जाते हैं.

जो नियम की ड्यूटी पर यात्रा करने के दौरान आमतौर पर होने वाले खर्चों को कवर करने के वास्ते होते हैं. इसका प्रयोग लाभ के स्रोत के इरादे से नहीं किया जाता है.वैसे तो केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में अभी हाल फिलहाल में ही बढ़ोतरी की गई है.

इसके साथ ही जब देअर्नेस एलाउंस में वृद्धि हुई है तो इसका प्रत्यक्ष प्रभाव टीए में भी पड़ा है अर्थात ट्रैवल एलाउंस में भी.

3% एचआरए में वृद्धि:

हाउस रेंट अलाउंस में अगला रिवीजन 3% का होगा ज्यादातर मौजूदा दर 27% से बढ़ाकर के एचआरए 30% हो जाएगा. किंतु यह तभी संभव हो पाएगा जब महंगाई भत्ता अर्थात देअर्नेस एलाउंस 50% के पार हो जाएगी.

मेमोरेडम के अनुसार दिए के 50% फ्रेश होने पर एचआरए 30% 20% एवं 10% हो जाएंगे. हाउस रेंट अलाउंस एचआरए के कैटेगरी एक्स वाई और जेड कैटेगरी शहरों के हिसाब से ही होती है.जो केंद्रीय कर्मचारी एक्स कैटेगरी में आते हैं उन्हें 27% एचआरए प्रदान किया जाता है.

वही जो 50% डीए होने पर 30% हो जाएंगे वही एक्स कैटेगरी वालों में सम्मिलित होते हैं. उनके वास्ते 18% से 20% कर दिया गया है.अगर बात की जाए जेड कैटेगरी की तो उनके वास्ते 9% से बढ़ाकर के 10% कर दिया गया है.

केंद्रीय कर्मचारियों के लिए पेंशन सुविधा:-

केंद्र सरकार के कर्मचारियों के वास्ते अपने नोडल कार्यालय के द्वारा राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली एनपीएस भी दान करना आवश्यक है.प्रत्येक महीने उसके वेतन का 10% जिसमें मूल वेतन और महंगाई भत्ता जुड़ा हुआ होता है.

इसके समकक्ष राशि सरकार के द्वारा एनपीएस में निवेश किए जाते हैं. जिससे कि उन्हें रिटायरमेंट के समय में नियमित रूप से पेंशन की सुविधा उपलब्ध हो सके.उनकी सेवानिवृत्ति के पश्चात वृद्धावस्था में उन्हें आर्थिक तंगी का सामना ना करना पड़े.

निष्कर्ष:

आज के इस आर्टिकल में हमने आप सभी लोगों के समक्ष सातवें वेतन आयोग और इससे जुड़ी हर एक बात प्रस्तुत करने का पूर्ण प्रयास किया है.हमें उम्मीद है कि हमारा प्रयास आपको बहुत ही ज्यादा पसंद आया होगा. 

अगर आप हमसे कोई सवाल पूछना चाहते हैं या फिर हमें कोई सुझाव देना चाहते हैं तो यह काम आप कमेंट के जरिए आसानी से कर सकते हैं. 

1 thought on “Fitment Factor: DA एरियर के बाद फिटमेंट फैक्टर भी कंफर्म! ”

Leave a Comment