Success Story: एनसीईआरटी और अखबार पढ़कर बने आईएएस ऑफिसर

सकारात्मक सोच और उसके साथ कड़ी मेहनत यही होती है हर सफलता के पीछे की कहानी, अपने लक्ष्य को सामने रखकर बिना रुके, बिना थके लगातार मेहनत करने से सफलता हमें मिल ही जाती है। आत्मविश्वास, अनुशासन और सत्यनिष्ठा से आप किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति बहुत ही आसानी से कर सकते है। एनसीईआरटी और अखबार पढ़कर बने आईएएस ऑफिसर।

किसी भी सफल व्यक्ति को देखकर हमें ऐसा लगता है कि इसे बहुत ही आसानी से सफलता प्राप्त हो गई है, पर ऐसा होता नहीं है। जब हम उस सफल व्यक्ति के मेंहनत की कहानी जानेंगे, तब जाकर हमें पता चलेगा कि सफल होने के लिए कितनी कुर्बानियां देनी पड़ती है।

आज हम जानेंगे अपने आर्टिकल के माध्यम से ‘आईएएस ऑफिसर अनमोल सागर’ के बारे में। जिन्होंने काफी मेहनत के बाद सफलता पाई है और आज वह आईएस है। तो बने रहे हमारे आर्टिकल में अंत तक ताकि हम आपको अनमोल सागर की सक्सेस स्टोरी के बारे में बता सकें। 

अनमोल सागर से जुड़ी कुछ रोचक बातें:

अनमोल सागर का जन्म उत्तर प्रदेश में 6 जून 1995 को हुआ था। अभी गोंदिया जिले के देवरी में अनमोल सागर एसडीएम के पद पर अपनी सेवा दे रहे हैं। अनमोल सागर ने 2016 में अपनी ग्रेजुएशन पूरी कर ली थी। 

अनमोल सागर ने अपने स्नातक की पढ़ाई दिल्ली यूनिवर्सिटी के किरोड़ीमल कॉलेज से पूरी की थी।इसके तुरंत बाद 2017 में ही उन्होंने पहली बार यूपीएससी का एग्जाम दिया, जिसमें वह सफल नहीं हो पाए।

इस समय उन्होंने ऑप्शनल सब्जेक्ट के रूप में इतिहास लिया था। वह महज 22 साल के थे। ]लेकिन इससे वह हारे नहीं बल्कि और जोश के साथ दोबारा परीक्षा देने के लिए जुट गए। इसके बाद 24 साल की उम्र में यूपीएससी परीक्षा पास की और अपना एवं अपने पूरे परिवार का नाम रोशन किया।

अनमोल सागर का विद्यार्थी जीवन:

अनमोल सागर ने अपने विद्यार्थी जीवन के अंतिम साल में अपने आईएएस बनने की तैयारी शुरू कर दी थी। उन्होंने सबसे पहले एनसीईआरटी की किताबों से तैयारी शुरू की। उसके बाद उनका ग्रेजुएशन कंप्लीट हुआ। 

फिर उन्होंने अपना पूरा समय अपने सपने को साकार करने के लिए समर्पित कर दिया। यानी कि यूपीएससी की तैयारी बहुत जोरों शोरों से शुरू कर दी,इसके लिए उन्होंने करंट अफेयर्स, पत्र-पत्रिकाओं, अखबारों इन सभी को प्राथमिकता दी। भूगोल उनका ऑप्शनल सब्जेक्ट था। जिसमें उन्हें 274 नंबर मिले थे। 

उसके बाद उन्हें यूपीएससी परीक्षा में 414वीं रैंक प्राप्त हुए। अगर आप भी पढ़ाई लिखे के साथ-साथ पैसा भी कमाना चाहते है तो इसे जरूर पढ़ें –अपने पैसे कैसे बचाएं? जानिये कुछ खास तरीकेउन्हें लिखित परीक्षा में 809 नंबर मिले और पर्सनैलिटी टेस्ट के अनमोल सागर को 168 नंबर मिले, तो कुल मिलाकर उन्हें 977 नंबर प्राप्त हुए।

उन्होंने अपनी पढ़ाई के दौरान सभी करंट अफेयर्स का नोट्स बनाया। इसके अलावा रिवीजन पर उन्होंने बहुत ज्यादा ध्यान दिया। उनके द्वारा बनाए गए नोट्स बहुत ही लाभदायक सिद्ध हुए। क्योंकि उनसे वह समय-समय पर सारे रिवीजन बहुत ही आसानी से कर लेते थे। उन्होंने हर सब्जेक्ट के लिए बिल्कुल शुरुआत से तैयारी की थी।

यूपीएससी के लिए तैयारी कैसे की?

अनमोल सागर ने यूपीएससी की तैयारी के लिए खुद को सबसे अलग कर लिया था। यूपीएससी की तैयारी के दौरान उन्होंने उत्सव, समारोह यह सब छोड़ दिया। दोस्तों से मिलना, बाहर जाना यह सब कुछ बंद कर दिया था।

कभी-कभी ज्यादा अकेलापन उन्हें परेशान करता था, जिससे वह खुद को उदास एवं परेशान महसूस करते थे।लेकिन वह इन सब से भी नहीं घबरायें और उन्होंने अपने मन पर नियंत्रण किया और सारी समस्याओं को खुद से ही दूर भगाया। 

अगर आप भी किसी किसान परिवार से बिलोंग करते हैं तो ये खबर आपके लिए बहुत जरुरी है – किसान सम्मान निधि योजना के बैनिफिशरी स्टेटस को कैसे चेक करें, यहां जाने पूरी प्रक्रियाइसके साथ ही साथ उनको समय का महत्व समझ में आया। पढ़ाई करने के दौरान उन्होंने समय कभी बर्बाद नहीं किया। बहुत अच्छे से तैयारी की और सफलता मिल गई।

जीवनसंगिनी भी हैं इंडियन फॉरेन सर्विस में:

आईएस अनमोल सागर की पत्नी कनिष्का सिंह भी इंडियन फॉरेन सर्विस में है। कनिष्का सिंह दिल्ली की है। कनिष्का सिंह को भी पहली बार में सफलता नहीं मिली। उन्होंने ऑप्शनल सब्जेक्ट के रूप में साइकोलॉजि लिया था। उन्होंने भी दूसरे प्रयास में यूपीएससी परीक्षा में सफलता पाई है। 

स्टडी में आपको पार्ट टाइम जॉब का बेहतरीन मौका देता है ये बिज़नेस जरूर पढ़ें-शुरू करें कैटरिंग का व्यापार और हो जाएं मालामाल, यहां से जाने पूरी प्रक्रियाफिलहाल कनिष्का सिंह अश्गाबाट एंबेसी में अपनी सेवा दे रही हैं। अश्गाबाट एंबेसी तुर्कमेनिस्तान की राजधानी है। 

कनिष्का सिंह वहां सेकंड सेक्रेटरी होने के साथ ही साथ हेड ऑफ चांसेरी भी है। दोनों पति-पत्नी सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय हैं। दोनों के सोशल मीडिया पर काफी अच्छी फैन फॉलोइंग है। इंस्टाग्राम पर जहां कनिष्का सिंह के 70 हजार फॉलोअर्स है।

वंही उनके पति अनमोल सागर के 40 हजार फॉलोअर्स है। दोनों पति पत्नी सोशल मीडिया के जरिए अपने फॉलोअर्स को हमेशा अच्छी सलाह देते हैं। इसके अलावा अपनी सोच को हमेशा सही दिशा में रखने के लिए और पढ़ाई अच्छे से करने के लिए कहते हैं।

आईएएस बनने के लिए कुछ टिप्स एंड ट्रिक्स:

अनमोल सागर और उनकी पत्नी कनिष्का सिंह द्वारा यूपीएससी क्रैक करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण सुझाव दिए गए हैं, वह हम आपको बता रहे हैं।

1. मन पर नियंत्रण- जब आप खुद को सबसे अलग करेंगे, शुरुआत में आपको बहुत ज्यादा घबराहट एवं उदासी महसूस होगी। लेकिन आपको इससे घबराना नहीं है, आप आशावादी बने और पूरी एकाग्रता के साथ अपनी पढ़ाई जारी रखें। सफलता आपको जरूर मिलेगी।

2. नोट्स जरूर बनाएं- आप शुरुआत से जब भी यूपीएससी की तैयारी के लिए पढ़ाई शुरू कर रहे हैं, उस समय से आपको नोट्स बनाने की आदत डाल लेनी होगी। जितना ज्यादा आप नोट्स बनाएंगे, उतनी ही आसानी से आप पढ़ाई कर पाएंगे।

3. रिवीजन करें- यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहलू है किसी भी परीक्षा में सफलता प्राप्त करने का, रिवीजन जितना अच्छा होगा। आपका परीक्षा फल उसी आधार पर आपको प्राप्त होगा।

4. लक्ष्य से ना भटके – अनमोल सागर एवं उनकी पत्नी कनिष्का सिंह ने दूसरी बार में यूपीएससी परीक्षा में सफलता पाई, वह दोनों पहली बार असफल रहे, लेकिन वह अपने लक्ष्य से नहीं भटके और उन्होंने अपनी तैयारी अच्छे से की।

5. मॉक टेस्ट पर ध्यान दें – जो भी विद्यार्थी यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं, उन्हें समय-समय पर मॉक टेस्ट देना ही चाहिए। क्योंकि जब आप की तैयारी पूरी हो जाएगी। तब आपको प्रैक्टिस और मॉक टेस्ट ही अपने लक्ष्य तक पहुंचाएगा।

निष्कर्ष:

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा आज का यह आर्टिकल पसंद आया होगा। हमने इसमें आईएएस ऑफिसर अनमोल सागर एवं उनकी जीवन संगिनी कनिष्का सिंह के यूपीएससी से जुड़े कुछ तथ्य प्रस्तुत किए हैं। जिससे आने वाले समय में विद्यार्थी इससे लाभ ले सकते हैं। हमारे आर्टिकल में अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद।

Leave a Comment